Category Archives: मेरी कविताएँ

भूला हुआ फ़साना

फिर कोई भूला हुआ फ़साना याद आया,

जो कभी ना बन सका, वोह अफसाना याद आया,

कहने को तो भूल चुके है उनको,

फिर भी उन्हें याद करने का बहाना याद आया|

 

उनके लिए लिखी हर ग़ज़ल याद आई,

उनके लिए गाया हर तराना याद आया,

कहने को तो भूल चुके है उनको,

फिर भी उन्हें याद करने का बहाना याद आया|

 

उनकी आँखों का वोह शर्माना याद आया,

उनके लबों का वोह मुस्कुराना याद आया,

कहने को तो भूल चुके है उनको,

फिर भी उन्हें याद करने का बहाना याद आया|

 

इस शायर को दफ्न कर चुके थे, उनकी यादों के साथ,

आज मुझे मैं ही दीवाना याद आया,

आज मुझे मैं ही दीवाना याद आया,

उन्हें याद करने का बहाना याद आया|

Advertisements